Thoughts of saints.

हर एक आम इंसान की इच्छाएं बेहद बलबती होती हैं और इन इच्छाओं की पूर्ति के लिए व्यक्ति उल्टे-सीधे कर्म एवं सोच अपना लेता है। इच्छा की पूर्ति पर खुश एवं पूर्ण न होने पर रंज-ओ-गम में डूब जाता है। जन्म से लेकर मृत्यु तक इच्छाओं का तांता सा लगा रहता है और कभी पूर्णContinue reading “Thoughts of saints.”

जीवन में जब भी….

जीवन में जब भी हम खराब दौर से गुजरते हैं..तब मन में यह विचार जरूर आता है… कि, परमात्मा मेरी परेशानी देखता क्यों नहीं है l……मेरे दुःख कम क्यों नहीं करता l पर याद रखना…जब परीक्षा चल रही होती है…तब शिक्षक मौन रहते है………… …….#Sngms

धर्म की प्रीमियम.

*”बुराई”* *करना रोमिंग की तरह है*. *करो तो भी चार्ज लगता है और* *सुनो तो भी चार्ज लगता है*. *और* *”नेकी”* *करना जीवन बीमा की तरह है*. *जिंदगी के साथ भी* *जिंदगी के बाद भी* *तो *”धर्म”* *की प्रीमियम भरते रहिये* *और अच्छे कर्म का*बोनस”* *पाते रहिये* ………..#Sngms

Create your website with WordPress.com
Get started