Design a site like this with WordPress.com
Get started

Success.

Don’t be afraid of moving slowly; be afraid of not moving. “Success is the sum of small efforts repeated day-in and day-out.” It’s what you do every day that matters; not what you do every once in a while. All those “seemingly insignificant” habits you practice every day (pray, read, exercise, etc) add up toContinue reading “Success.”

परमेश्वर का रंग.

तमो गुण का मतलब अंधकार, क्रोध, दुख का कारण l प्रकृति के तीन गुणों से इंसान प्रभावित होता है, इसलिए इंसान को प्रभु के रंग में रंगना जरूरी है l परमात्मा के प्रभाव से सतोगुण का असर बना रहता है l इंसान नेक कर्म करता है l जैसे ही हम परमात्मा को भूलते हैं रजोगुणContinue reading “परमेश्वर का रंग.”

वायदा करो।

आज वादा करो इक इरादा करोसंग जीने का मरने का वादा करो। हाथ मे हाथ तेरा रहे इस कदरचांद की चांदनी सा हो रिश्ता मगर,दिल मे दीपक वफ़ा का जलाएंगे हमजिन्दगी में चलेगे मिलाकर कदम ।गर ख़ता कोई हो माफ करने का ,तुम हमसे वायदा करो। इक इरादा करो। जिस्म से जिस्म का इश्क होताContinue reading “वायदा करो।”

दिल की बात.

हमारी याद से बढ़कर कोई अपना नहीं लगता। सहारा जिसको माना था डुबाया है उसी ने यूं। मेरे राही मेरे हमदम जरा सा याद करलो तुम। तेरे बिन दिल नहीं लगता बताऊँ क्या , तुम्हें कैसे। नहीं आऊँगा मिलने को ये तुम याद रख लेना। मगर तुम्हारी यादों को मै हमेशा याद रखूंगा । भुलानाContinue reading “दिल की बात.”

जीवन में जब भी….

जीवन में जब भी हम खराब दौर से गुजरते हैं..तब मन में यह विचार जरूर आता है… कि, परमात्मा मेरी परेशानी देखता क्यों नहीं है l……मेरे दुःख कम क्यों नहीं करता l पर याद रखना…जब परीक्षा चल रही होती है…तब शिक्षक मौन रहते है………… …….#Sngms

Dil ki bat(27).

ये दुनिया सुख दुख का सागर है,यहाँ कब क्या हो किसको पता है,सम्हलकर चलना जीवन की राहों में,मुसीबत का एक कांटा भी दिल चिर देता है।भरोषा जल्दी करने वालो को,ज्यादातर धोखे सहना पड़ता है।जिंदगी का हर पल ,यहाँ कुछ न कुछ सिखाकर ही जाता हैखुशिया न सही तो ,तजुर्बे तो देकर ही जाता है।बद सेContinue reading “Dil ki bat(27).”

शब्द प्रेम.

1 कुछ नहीं था, एक मामूली सा अदना प्राणी, आपके प्रेम ने आम से खाश बना डाला, मालूम नहीं कुछ शब्दों का हुनर, आपकी प्रेरणा ने काव्य लिखवा डाला। 2 किस पर लिखता, इस जहाँ पर लिखने की क्या जरूरत, यहाँ तो अपने ही गम काफी थे, काव्य का रूप देकर, स्वर्णाक्षरित अमिट पहचान बनवाContinue reading “शब्द प्रेम.”

पहचान.

*किसी भी पेड़ या पौधे पर फल-फूल* *से ज़्यादा पत्ते होते हैं,* *फिर भी वो पेड़ पौधा फल या* *फूल के नाम से पहचाना जाता है.* *ठीक उसी तरह हमारे पास अच्छी बातें* *कितनी ही क्यों ना हो,* *पहचान तो हमारे कर्मो से ही होती है ।* ……#Sngms

दिल के भाव.

दिल के भाव, लबों पे आने न दो। रोंको खुद को, दो पल की ख़ुशी में , खुद को न बह जाने दो। ऐतबार करें कि न करें, बड़ी कशमकश होती है। मोहब्बत में टूट कर उठने में, बड़ी जिल्लत होती है। पता है सभी को , कि ये बेवफा है। जो एक दिन साथContinue reading “दिल के भाव.”

वृद्धोपसेविनः

शादी की सुहाग सेज पर बैठी एक स्त्री का पति जब भोजन का थाल लेकर अंदर आया तो पूरा कमरा उस स्वादिष्ट भोजन की खुशबू से भर गया रोमांचित उस स्त्री ने अपने पति से निवेदन किया कि मांजी को भी यहीं बुला लेते तो हम तीनों साथ बैठकर भोजन करते। पति ने कहा छोड़ोContinue reading “वृद्धोपसेविनः”