शब्द प्रेम.

1 कुछ नहीं था, एक मामूली सा अदना प्राणी, आपके प्रेम ने आम से खाश बना डाला, मालूम नहीं कुछ शब्दों का हुनर, आपकी प्रेरणा ने काव्य लिखवा डाला। 2 किस पर लिखता, इस जहाँ पर लिखने की क्या जरूरत, यहाँ तो अपने ही गम काफी थे, काव्य का रूप देकर, स्वर्णाक्षरित अमिट पहचान बनवाContinue reading “शब्द प्रेम.”

Create your website at WordPress.com
Get started