पूजा.

बहुत हैरान हूं भगवन,तुम्हे क्या कर रिझाऊँ मैं कोई वस्तु नहीं मिलती, जिसे सेवा में लाऊँ मैं।                    1करूं कैसे मैं आवाहन,     जो तुम्हे स्वीकार हो हर्षाय          तेरा दर है बुला ले तू,               अगर घंटा बजाऊ मैं। बहुत….                    2लगाना भोग कुछ तुमको,    ये एक अपमान करना है        खिलाता है जो सब जग को           उसे क्या लेकरContinue reading “पूजा.”

Mere Sadguru(1).

मेरे प्रिय मित्रों मैं आप सभी को अपने सद्गुरु का परिचय करवाना चाहता हूं। मेरे सद्गुरु महान आध्यात्मिक गुरु  हरदेव सिंह जी निरंकारी बाबा हैं। सन 2010 में मुझे सद्गुरु के द्वारा ब्रम्हज्ञान की प्राप्ति हुई। उससे पहले मैं सत्य की खोज में था। तो उस समय मैंने सद्गुरु से एक प्रार्थना किया था जबContinue reading “Mere Sadguru(1).”

Create your website at WordPress.com
Get started